MRI टैक्नीशियन कैसे बनें? | MRI टैक्नीशियन कौन होता है?

MRI technician Kaise bane: आज के समय में साइंस ने बहुत तरक्की की है ऐसी कोई भी समस्या नहीं होगी जो साइंस सुलझा ना सके मेडिकल के क्षेत्र में भी बहुत से आविष्कार किए गए हैं ऐसे यंत्रो का इलाज किया गया है जिनसे मरीजों के शरीर की आंतरिक बीमारी का भी पता लगाया जा सकता है आपने देखा होगा हॉस्पिटल में जब डॉक्टर मरीज का MRI करवाने के लिए कहता है तो जो व्यक्ति एमआरआई करता है उसे MRI टैक्नीशियन कहते हैं MRI टेक्नीशियन की मांग हर प्रकार के अस्पतालों में होती है तो यदि आप एमआरआई टेक्नीशियन बनना चाहते हैं और आपको इसके बारे में पूरी जानकारी नहीं है तो आप इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें इसमें हम आपको MRI टेक्नीशियन बनने की सभी प्रकार की जानकारियां प्रदान करेंगे.

MRI technician Kaise bane
MRI technician Kaise bane

एमआरआई टैक्नीशियन कौन होता है?

अस्पताल में जब मरीज का इलाज करते समय डॉ एमआरआई करवाने के लिए बोलते हैं इससे शरीर में होने वाली सभी प्रकार की आंतरिक बीमारियों का पता लगाया जाता है ताकि रोगी का उचित प्रकार से इलाज किया जा सके एमआरआई करने वाले व्यक्ति को MRI टेक्नीशियन कहा जाता है एमआरआई टैक्नीशियन सरकारी अस्पतालों में भी होते हैं और प्राइवेट नर्सिंग होम में भी.

यह भी पढ़े: रेलवे स्टेशन मास्टर कैसे बनें?

MRI टेक्नीशियन बनने के लिए योग्यता

MRI टेक्नीशियन बनने के लिए आपको 12वी फिजिक्स, केमिस्ट्री, बायलॉजी सब्जेक्ट से पास करनी होगी जिसमे 45% मार्क्स होने चाहिए साथ ही कंप्यूटर का भी नॉलेज होना चाहिए और कम्यूनिकेशन स्किल अच्छी होनी चाहिए.

MRI टेक्नीशियन बनने के लिए कोर्स

MRI टेक्नीशियन बनने के लिए स्टूडेंट्स को MRT (Medical Radiology Technician) का कोर्स करना पड़ता है यह कोर्स यूनिवर्सिटी में दो तरह से कराया जाता है पहला – DMRT और दूसरा BMRT. तो हम इस लेख में आपको इन दोनों कोर्सों के बारे में विस्तार से जानकारी प्रदान करेंगे इसके लिए आर्टिकल में बने रहे.

DMRT कोर्स

DMRT का फुल फॉर्म Diploma inMedical Radiology Technician होता है यह 2 साल का डिप्लोमा कोर्स होता है जिसमें एमआरआई टेक्निशियन बनने की सभी  स्किल्स आपको सिखाई जाती है.

DMRT कोर्स का सिलेबस

यह कोर्स 2 साल का होता है जिसमे पूरे सिलेबस को दो भागों में बांटा जाता है आधा सिलेबस प्रथम वर्ष पढ़ाया जाता है और आधा दूसरे वर्ष पढ़ाया जाता है.

फर्स्ट ईयर सिलेबस

इस कोर्स के प्रथम वर्ष में आपको निम्नलिखित सब्जेक्ट पढ़ाए जाते हैं-

  • बेसिक ह्यूमनसाइंस
  • प्राथमिक चिकित्सा
  • रेडियोग्राफिकटेकनीशियन
  • रेडिएशनप्रोटेक्शन
  • कम्यूनिकेशन इंग्लिश
  • कंप्यूटर एप्लीकेशन
  • इक्विपमेंट ऑफ रेडियो डायगनोस्टिक्स
  • रेडियोलॉजिकलरेडियोग्राफी फोटोग्राफी जम्प
  • रेडियोग्राफी

सेकंड ईयर सिलेबस

सेकंडईयर के सिलेबस में आपको निम्नलिखित सब्जेक्ट्स पढ़ाए जाएंगे-

  • न्यूक्लियर मेडिसिन
  • इक्विपमेंट
  • कंप्यूटेडटोमोग्राफी
  • मैग्नेटिकरेसोनेंसइमेजिंग
  • स्पेशलप्रोसीजरगेम्प
  • अल्ट्रासोनोग्राफीआदि सब्जेक्ट पढ़ाए जाते हैं.

BMRT कोर्स

BMRT का फुल फॉर्म Bachelor in Medical Radiology Technician होता है यह 3 साल का बैचलर कोर्स होता है इसमें आपको एमआरआई टेक्नीशियन बनने के लिए सभी आवश्यक विषय पढ़ाए जाते हैं.

जानें  कितनी होती है MRT कोर्स की फीस

एमआरटी कोर्स दो प्रकार के होते हैं DMRT और BMRT. दोनों की फीस अलग अलग होती है.

DMRT कोर्स की फीस

सभी कोर्सों की फीस कॉलेज के अनुसार होती है आप जैसा कॉलेज चुनेंगे वैसी ही फीस रहेगी किंतुइस कोर्स के लिए अनुमानित न्यूनतम वार्षिक फीस ₹60,000 से लेकर 95,000 रुपए होती है.

BMRT कोर्स की फीस

इस कोर्स की फीस कॉलेज पर डिपेंड करती है जैसा कॉलेज होगा वैसी फीस पड़ेगी जहाँ सरकारी कॉलेजों में कम फीस में कोर्स पूरा हो जाता है वहीं प्राइवेट कॉलेजों में बहुत ज्यादा फीस देनी पड़ती है किंतु इस कोर्स की न्यूनतम वार्षिक फीस ₹80,000 से लेकर ₹1,50,000 तक होती है.

MRI टैक्नीशियन का कोर्स करने के बाद नौकरी के क्षेत्र

एमआरआईटैक्नीशियन बनने के लिए आपको एमआरटी कोर्स करना पड़ता है जो कि दो प्रकार का होता है पहला DMRT और दूसरा BMRT इन दोनों में से आप किसी भीकोर्स को कर सकते हैं.

यह कोर्स करने के बाद आपको निम्नलिखित क्षेत्रों मेंजॉब मिल सकती है-

  • सरकारी अस्पताल
  • प्राइवेट अस्पताल 
  • डायग्नोस्टिक्स इमेजिंग सेंटर
  • नर्सिंगहोम
  • मोबाइल रेडियोग्राफी यूनिट्स

उपर्युक्त क्षेत्रों में आप निम्नलिखित पदों पर कार्य कर सकते हैं-

  • MRI टेक्नीशियन
  • हेड MRI टैक्नीशियन
  • असिस्टेंट MRI टेकनीशियन
  • हॉस्पिटल एक्स रे टेक्नोलॉजिस्ट
  • रेडियोग्राफिक इमेजिंग असिस्टेंट आदि.

MRI टैक्नीशियन की सैलरी कितनी होती है?

एमआरआई टेक्नीशियन बनने के बाद आपकी शुरुआती सैलरी लगभग ₹20,000 से लेकर ₹25,000 प्रतिमाह तक हो सकती है किंतु अनुभव बढ़ने के साथ साथ आप का वेतन भी बढ़ता है तो आप प्रतिमाह ₹25,000 से अधिक भी कमा सकते हैं यह आपके काम करने के तरीके पर निर्भर करता है.

यह भी पढ़े: ग्राम पंचायत सचिव कैसे बने?

आज आपने क्या सीखा?

उम्मीद है कि आपको हमारा लेख “MRI टेक्नीशियन कैसे बने” पसंद आया होगा इसमें हमने आपको MRI टेक्निशियन बनने के लिए कौन सा कोर्स करना चाहिए इसके लिए क्या योग्यता होती है और इसकी सैलरी के बारे में बताया यदि आपको ऐसे ही किसी और विषय के बारे में जानकारी चाहिए तो आप हमें कमेंट कर सकते हैं.

Leave a Comment