LLB ke fayde kya hai: एलएलबी क्या होता है? सम्पूर्ण जानकारी

LLB ke fayde kya hai: आज के समय मेंसभी व्यक्ति अपना करियर एक अच्छे मुकाम पर बनाना चाहते हैं जिसके लिए वे कड़ी मेहनत और संघर्ष भी करते हैं किंतु कभी कभी सही मार्गदर्शन न होने के कारण अपने लक्ष्य से भटक जाते हैं यदि आप वकील या जज बनना चाहते हैं तो आपको इससे संबंधित कोर्स करना होगा तो आज के इस आर्टिकल में हम आपको एलएलबी कोर्स और इसके लाभ के बारे में विस्तार से जानकारी प्रदान करेंगे तो आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें.

LLB ke fayde kya hai
LLB ke fayde kya hai

LLB का फुल फॉर्म क्या है?

LLB का फुल फॉर्म Bachelor of Legislative Law होता है.

LLB क्या है?

जो विद्यार्थी वकील या जज बनना चाहते हैं वे एलएलबी कोर्स कर सकते हैं यह कोर्स 3 साल का होता है जो कि एक अंडरग्रेजुएट डिग्री होती हैजिसमें विद्यार्थियों को कानून से संबंधित ज्ञान प्रदान किया जाता है वकील या जज बनने के लिए एलएलबी की डिग्री अनिवार्य होती है बिना यह कोर्स किए उम्मीदवार जज या वकील नहीं बन सकता है क्योंकि जज और वकील बनने के लिएजिस ज्ञान की आवश्यकता होती है वह सिर्फ एलएलबी कोर्स इसके तहत ही प्रदान किया जाता है इसमें कानून के सिद्धांतों, कानूनी प्रक्रियाओं, कानूनी प्रणाली और कानूनी अनुसंधान के बारे में गहराई अध्ययन कराया जाता है.

Skill India Mission 2024 के अंतर्गत बेरोजगार युवाओं के लिए सुनहरा मौका यहाँ से करें आवेदन

12वीं के बाद एलएलबी करने और ग्रेजुएशन के बाद एलएलबी करने में बस इतना ही फर्क है कि 12वीं के बाद 5 साल का कोर्स करनाहोता है और ग्रेजुएशन के बाद 3 साल का कोर्स करना होता है.

  • एलएलबी 3 साल का अंडर ग्रैजुएट कोर्स होता है जिसमें छह सेमेस्टर होते हैं प्रत्येक सेमेस्टर छह महीने का होता है.
  • इंटीग्रेटेड एलएलबी 5 साल का अंडर ग्रैजुएट कोर्स होता है इसमें 10 सेमेस्टर होते हैं प्रत्येक सेमेस्टर छह महीने का होता है.

Integrated undergraduate degrees (पांच साल)

  • B.A.LL.B.
  • B.Sc.LL.B.
  • BBA.LL.B.
  • B.Com.LL.B.

एलएलबी कोर्स के लाभ

  • एलएलबी कोर्स करने से आपको उच्च कोटि का ज्ञान प्राप्त होता है.
  • इसमें कानून के सिद्धांतों, कानूनी प्रणाली, कानूनी अनुसंधान और कानूनी प्रक्रियाओं के बारे में गहराई से अध्ययन किया जाता है.
  • सभी कानूनी समस्याओं को सुलझाने की समझ विकसित होती है.
  • एलएलबी कोर्स करने के बाद आप वकील,जज, न्यायाधीश या कानूनी सलाहकार आदि के पद पर आसीन हो सकते हैं.
  • अधिकारों और कर्तव्यों के प्रति जागरूकता विकसित होती है.
  • इस कोर्स के माध्यम से आपकी कम्यूनिकेशन स्किल में सुधार आता है.
  • राजनीति के क्षेत्र में भी आप सलाहकार के रूप में कार्य कर सकते हैं.
  • किसी भी प्रकार के शोषण या अत्याचार के खिलाफ़ आवाज उठाकर केस लड़ सकते हैं.
  • निर्ल प्राणी का केस लड़कर उसे इंसाफ दिला सकते निर्बल प्राणी का केस लड़कर उसे इंसाफ दिला सकते हैं.
  • वकालत के क्षेत्र में महारथ हासिल करने के लिए एलएलबी कोर्स अनिवार्य होता है.

यूनिवर्सिटी के लिए प्रवेश परीक्षाएं

एलएलबी कोर्स के लिए विश्वविद्यालयों द्वारा आयोजित प्रवेश परीक्षाएं निम्नलिखित  है

  • CLAT
  • LSAT
  • ILI CAT
  • DU इंट्रेंस
  • AIBE
  • ILSAT
  • AILET

यूनिवर्सिटी में प्रवेश के लिए आवेदन प्रक्रिया

भारतीय यूनिवर्सिटीज में प्रवेश के लिए आवेदन प्रक्रिया निम्नलिखित हैं-

  • सबसे पहले आपको चुनी हुई यूनिवर्सिटी की ऑफिशियल वेबसाइट में जाकर रजिस्ट्रेशन करना है.
  • यूनिवर्सिटी की वेबसाइट में रजिस्ट्रेशन के बाद आपको एक यूजर नेम और पासवर्ड मिल जायेगा.
  • उसके बाद वेबसाइट में साइन इन करने के बाद अपने चुने हुए कोर्स सेलेक्ट करना है जिसको आप करना चाहते हैं.
  • फिर शैक्षिक योग्यता, वर्ग आदि के साथ आवेदन फॉर्म भरना है.
  • इसके बाद आवेदन फॉर्म जमा करना है और आवेदन शुल्क का भुगतान करना है.
  • अगर एडमिशन, प्रवेश परीक्षा पर बेस्ड है तो पहले प्रवेश परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन करना है और उसके बाद रिजल्ट के बाद काउंसलिंग की वेल करना हैं.
  • प्रवेश परीक्षा के अंको के आधार पर आपका सिलेक्शन किया जाएगा और लिस्ट जारी होगी.

LLB के लिए योग्यता

एलएलबी कोर्स के लिए आपको विश्वविद्यालयों द्वारा निर्धारित सभी पात्रता मापदंडों को पूरा करना होगा जोकि निम्नलिखित है-

  • LLB कोर्स को करने के इच्छुक विद्यार्थियों को 12वीं कक्षा में किसी भी मान्यता प्राप्त बोर्ड में (किसी भी स्ट्रीम) में कम से कम 45% अंक प्राप्त करने चाहिए.
  • एलएलबी छात्रों को पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए आवश्यक प्रवेश परीक्षा भी उत्तीर्ण करने की आवश्यकता है.
  • अगर छात्र एलएलबी की तीन साल की पढाई करना चाहते हैं तो उनके पास ग्रेजुएट की डिग्री होनी जरुरी है.
  • भारत में LLB करने के लिए कोई उम्र सीमा तय नहीं है.

महात्मा गाँधी रूरल इंडस्ट्रियल पार्क योजना के तहत राज्य में बनेंगे रूरल इंडस्ट्रियल पार्क

एलएलबी कोर्स के लिए टॉप यूनिवर्सिटी

  • नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ स्टडी एंड रिसर्च इन लॉ,रांची
  • जामिया मिलिया इस्लामिया, दिल्ली
  • गुजरात नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, गाँधी नगर
  • ओडिशा नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, भुवनेश्वर
  • डॉक्टर राम मनोहर लोहिया नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, लखनऊ
  • नेशनल लॉइंस्टीट्यूट यूनिवर्सिटी, भोपाल
  • नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी,जोधपुर
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी,खड़गपुर
  • कलिंगा यूनिवर्सिटी ऑफ इंडस्ट्रियल टेक्नोलॉजी,ओडिशा

लॉ में स्पेशलाइजेशन

लॉ की पढाई में किसी एक क्षेत्र में स्पेशलाइजेशन करने से आप उस क्षेत्र में महारथ हासिल कर लेते है जिससे उस विषय से सम्बंधित किसी भी प्रकार की समस्या को बहुत ही आसानी से ख़तम कर सकते है और अपने क्लाइंट को संतुष्ट कर सकते है  

  • टैक्स लॉ
  • साइबरलॉ
  • फैमिलीलॉ
  • पेटेंट अटॉर्नी
  • बैंकिंग लॉ
  • क्रिमिनललॉ
  • लीगलमेथड्स
  • प्लीफॉरट्रायल
  • ज्यूरिस्प्रूडेंस
  • कॉन्ट्रैक्ट्स
  • लॉऑफ़एविडेंस
  • इंटेलेक्चुअलप्रॉपर्टी
  • एडमिनिस्ट्रेटिवलॉ
  • लीगलराइटिंग
  • ह्यूमनराइट्स एंड इंटरनेशनल लॉ
  • एनवायर्नमेंटललॉ

LLB कोर्स का सिलेबस

LLB में पढ़ाये जाने वाले विषय जो आपके अध्ययन के लिए आवश्यक है वो निम्नलिखित हैं-

एल.एल.बी प्रथम सेमेस्टर

  • लेबरलॉ
  • फैमिलीलॉ -१
  • क्राइम
  • टर्मस ऑफ़ कॉन्ट्रैक्ट -१
  • ऑप्शनल पेपर्स (कोई भी)
  • कॉन्फिडेंस
  • विमन एंड लॉ
  • क्राइम
  • इंटरनेशनल इकोनॉमिक्स लॉ

एल.एल.बी द्वितीय सेमेस्टर

  • फैमिलीलॉ -२
  • लॉऑफ़टॉर्च एंड कंस्यूमर प्रोटेक्शन एक्ट
  • कॉन्स्टिट्यूशनल लॉ
  • प्रोफेशनल एथिक्स

एल.एल.बी तृतीय सेमेस्टर

  • लॉऑफ़एविडेंस
  • मेडिएशन, कॉंसिलिएशन एंड अल्टरनेटिव
  • ह्यूमनराइट्स इंटरनेशनल लॉ
  • एनवायर्नमेंटललॉ

एल.एल.बी चतुर्थ सेमेस्टर

  • ट्रांसफर ऑफ़ प्रॉपर्टी लॉ इन्क्लूडिंग प्रॉपर्टी लॉ
  • जुरिस प्रूडेंस
  • प्रैक्टिकल ट्रेनिंग – लीगल ऐड
  • रूलऑफ़एनेक्स -२
  • एनी ऑप्शनल पेपर्स
  • कम्पेरेटिव लॉ
  • लॉ ऑफ़ इंश्योरेंस
  • कनफ्लिक्ट ऑफ़ लॉ
  • इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी लॉ

एल.एल.बी पंचम सेमेस्टर

  • सिविल प्रोसीजर कोड CPC
  • एक्सप्लनेशन ऑफ़ मेथड्स
  • लीगल राइटिंग
  • लैंडलॉज़, इन्क्लूडिंग सीलिंग एंड अदर लोकल लॉज़
  • एडमिनिस्ट्रेटिव लॉ

एल.एल.बी षष्ट सेमेस्टर

  • क्रिमिनल प्रोसीजर कोड
  • कंपनी लॉ
  • प्रैक्टिकल ट्रेनिंग मूट कोर्ट
  • प्रैक्टिकल ट्रेनिंग ड्राफ्टिंग
  • ऑप्शनल पेपर (कोई भी)
  • इन्वेस्टमेंट एंड सिक्योरिटीज लॉ
  • लॉ ऑफ़ टैक्सेशन
  • को-ऑपरेटिव लॉ
  • बैंकिंग लॉज़ इन्क्लूडिंग नेगोशिएबल रिटन एक्ट्स

एलएलबी कोर्स की फीस

एलएलबीकोर्स की फीस इस बात पर निर्भर होती है कि आपने सरकारी कॉलेज चुना है या प्राइवेट कॉलेज चुना है क्योंकि सरकारी कॉलेज की अपेक्षा प्राइवेट कॉलेजों में फीस काफी ज्यादा होती है प्राइवेट कॉलेज में औसतन फीस ₹30,000 से ₹70,000 प्रतिवर्ष होती है वहीं सरकारी कॉलेज में एलएलबी कोर्स के लिए औसतनफीस ₹10,000 से ₹30,000 प्रतिवर्ष तक हो सकती हैजोकि प्रत्येक कॉलेज के हिसाब से अलग अलग होती है.

एलएलबी करने के बाद करियर ऑप्शन

LLB क्या है जानने के बाद लॉ में मिलने वाली जॉब प्रोफाइल्स निम्नलिखित हैं-

  • जूनियर जुडिशियल असिस्टेंट
  • असिस्टेंट कोर्ट सेक्रेटरी
  • असिस्टेंट प्रॉसिक्यूशन
  • क्लर्क
  • अदर लॉरिलेटेड पोस्ट्स
  • डेप्युटी लीगल मैनेजर
  • लीगल अडवाइसर
  • लीगल ऑफिसर ऑन बोर्ड
  • सीनियर लॉ अफसर
  • लीगल जनरल मैनेजर
  • लीगल एडवाइजर
  • लीगल चीफ जनरल मैनेजर
  • सीनियर लीगल ऑफिसर
  • लीगल अफसर
  • सवरन कमीश्नर
  • क्रिमिनल लॉयर
  • सिविल लॉयर
  • फैमिली लॉयर
  • इंश्योरेंस लॉयर
  • बैंक एडवोकेट
  • लॉ डिपार्टमेंट
  • ऑफिस क्लर्क
  • लेक्चरर
  • क्लेम मैनेजर

एलएलबी कोर्स करने के बाद कितना वेतन मिलता है

एलएलबी कोर्स  करने के बाद आप जिस पद पर नियुक्त होंगे या फिर जो कार्य करेंगे उसके हिसाब से आपको वेतन प्रदान किया जाएगा वकील की पोस्ट के लिए अलग सैलरी होती है और न्यायाधीश की पोस्ट के लिए अलग सैलरी होती है एलएलबी करने के बाद शुरुआत में 15 से 25 हजार रुपये प्रतिमाह मिल सकता है और अनुभव बढ़ने के साथ साथ आपकी सैलरी ₹40,000 से ₹80,000 प्रतिमाह तक हो सकती है.

उम्मीद है कि आपको आज का हमारा लेख “एलएलबी कोर्स की संपूर्ण जानकारी” पसंद आया होगा यदि आपको ऐसे ही किसी और विषय के बारे में जानकारी चाहिए तो आप हमें कमेंट कर सकते हैं.

Leave a Comment